विदेशों में बसे भारतीयों के जीवन में हिन्दुत्व की सुगंध आनी चाहिएः डॉ. हरीश रौतेला

विदेशों में बसे भारतीयों के जीवन में हिन्दुत्व की सुगंध आनी चाहिएः डॉ. हरीश रौतेला

INTERNATIONAL NATIONAL REGIONAL RELIGION/ CULTURE

35 से अधिक देशों में निवासरत आगराइट्स के साथ RSS ने किया संवाद

संघ आगरा में 65 हजार परिवारों को प्रतिदिन करा रहा भोजन
Agra (Uttar Pradesh, India) । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya swayamsevak sangh), संपर्क विभाग द्वारा आगरा (Agra) के ऐसे निवासी जो वर्तमान में विश्व के विभिन्न देशों में रह रहे हैं (Non-resident Indians), उनसे शनिवार की रात्रि को संवाद किया। इस संवाद में 35 से अधिक देशों के 165 लोग शामिल हुए। आरएसएस के बृज प्रांत प्रचारक डॉ. हरीश रौतेला (, Dr harish rautela) ने आवाहन किया कि भारत में आएं और यहां से आध्यात्म और सेवा का भाव लेकर जाएं। विदेश में बसने वाले भारतीयों के जीवन में हिन्दुत्व (Hindutva) की सुगंध आनी चाहिए।

आगरा सेवा की नगरी

डॉ. हरीश रौतेला ने कहा- आगरा भगवान शिव, जूता और पेठा के साथ ही सेवा कार्यों की भी नगरी है। कोरोना संक्रमण काल में यह सिद्ध हो गया। उन्होंने कहा- हम सबका मिलन ऐसे समय में हो रहा है जब कोरोना संक्रमण के कारण विश्व संकट के दौर में है। दुनिया घबराई हुई है। भारत के लोगों ने इसे अवसर में बदल दिया है। सेवा के काम किए।

66 हजार परिवारों को प्रतिदिन भोजन कराया

उन्होंने बताया कि 80 हजार भोजन के पैकेट कोरोना काल में संघ के स्वयंसेवकों ने समाज के सहयोग से वितरित किए। आगरा में 66 हजार ऐसे परिवार हैं, जिन्हें प्रतिदिन भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। 67 हजार मजदूरों को ट्रैक्टर, स्कूली बसों द्वारा उनके स्थान तक पहुंचाया गया। एक लाख लोगों को मास्क बांटा गया। दस हजार से अधिक दूध के पैकेट्स का वितरण किया गया। 180 बस्ती के अंदर सिलाई, पुस्तकालय, स्वास्थ्य के कार्य स्वयंसेवकों द्वारा किए जा रहे हैं।

दुनिया के 150 देशों में हिन्दू

डॉ. रौतेला ने बताया कि 10 दिन के आवाहन पर 250 से अधिक परिवारों ने सहभोज किया। सहभोज में बड़ी ताकत है।  भविष्य में आगरा सेवा कार्यो के लिए भी जाना जाएगा। उन्होंने कहा कि दुनिया के 150 देशों में हिन्दू समर्पित रूप में रहता है। विश्व को भारत के विचारों को आत्मसात करना होगा। भारत का दर्शन लेकर चलना पड़ेगा। एकमात्र भारत ही एक ऐसा हैं, जो विश्व का मार्गदर्शन कर सकता है।

भारत में लोग निवेकरने के इच्छुक

डॉ. हरीश रौतेला ने कहा कि आगरा से विदेश में जाकर बसने वाले व्यक्ति के जीवन से हिन्दुत्व की सुगंध आनी चाहिए। अपने घरों में साहित्य कैसा हो, हमारे संस्कार हमारे जीवन में बने रहें। आज रामायण सीरियल को देखकर परिवार के बच्चे हनुमान, लक्ष्मण का अभिनय कर रहे हैं, वातावरण बदल रहा है। समाज को जोड़ने वाले हमारे उत्सव है। अमेरिका की संसद में दीपावली मनायी जाती है। उन्होंने कहा कि आज भारत में लोग निवेश करने के इच्छुक हैं।

भारत को विश्व गुरु बनाना है

बैठक की भूमिका आगरा विभाग के संपर्क प्रमुख सीए संजीव माहेश्वरी ने रखी। सीए संजीव माहेश्वरी ने कहा कि आगरा के प्रवासी बंधुओं को इस महामारी के समय में निकट लाने का प्रयास किया है। कार्यक्रम का उद्देश्य हम सभी में एकता की भावना पैदा करना एवं आपस ही नहीं वरन आगरा शहर की बेहतरी के लिए प्रयास करना है। उन्होंने कहा कि आप सभी जानते हैं कि संघ एक सांस्कृतिक, राष्ट्रवादी सामाजिक संस्था है, जो कि अपने देशवासियों में सर्वश्रेष्ठ गुणों का विकास करके उन्हें राष्ट्र और समाज की सर्वांगीण उन्नति में उपयोग करना चाहता है। संघ की विचारधारा भारत को विश्व गुरु की पुरानी स्थिति में पुनः देखना चाहती है।

हर माह होगी बैठक

बैठक में आगरा के प्रवासी बंधुओं ने डॉ. हरीश से प्रश्न किए। उनकी जिज्ञासाओं का समाधान किया। बैठक में आगरा के प्रवासी बंधुओं में चिकित्सक, वैज्ञानिक, व्यापारी आदि शामिल रहे। बैठक रात्रि 9 बजे प्रारंभ हुई और 11.30 तक चली। बैठक में विभाग प्रचारक धमेंद्र, प्रचार प्रमुख मनमोहन निरंकारी और रोहित महाजन ने मुख्य भूमिका निभाई। मनमोहन निरंकारी ने बताया कि इस प्रकार की बैठक हर माह आयोजित की जाएगी।