ताजमहल के शहर को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए मेयर लाए बड़ी योजना

ताजमहल के शहर को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए मेयर लाए बड़ी योजना

HEALTH POLITICS REGIONAL

आगरा शहर के साथ देहात के लोगों को भी मिलेगा लाभ, नहीं फैलेगा प्रदूषण

आगरा। ढाई वर्ष पूर्व जब मैंने महापौर पद की शपथ ली थी तो आगरा की जनता को आश्वस्त किया था कि मैं स्वच्छ आगरा, हरित आगरा व नवीन आगरा के लिए प्रतिबद्ध रहूंगा। मुझे यह बताते हुए अति प्रसन्नता हो रही है कि शीघ्र ही आगरा में एक ऐसी योजना मूर्त रूप लेने जा रही है जिसमें प्रदूषण मुक्त आगरा की परिकल्पना साकार होती प्रतीत दिखाई देगी, साथ ही यह योजना ताजनगरी को प्रदूषण मुक्त बनाने में मील का पत्थर साबित होगी। प्रदूषण विभाग के आंकड़े बताते हैं कि आगरा में 60 फीसदी प्रदूषण ट्रांसपोर्टेशन से होता है जिसका मुख्य कारक व्यवस्थित पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन का न होना भी है जिस वजह से निजी वाहनों का प्रयोग अधिक होता है और उससे प्रदूषण की मात्रा काफी बढ़ जाती है। आगामी महीनों में आगरा के विकास एवं शहर के पर्यावरण के सुधार हेतु जन परिवहन प्रणाली में आमूलचूल परिवर्तन के साथ शहर में 100 इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन की योजना फलीभूत होने जा रही है। 31 मार्च, 2021 तक आधुनिक इलेक्ट्रिक चालित बसें शहर की सड़कों पर दौड़ने लगेंगी।

आगरा का विस्तार

यह जानकारी महापौर नवीन जैन ने नगर निगम में आयोजित प्रेसवार्ता में दी। उन्होंने कहा कि आगरा शहर का विस्तार काफी बढ़ गया है। रोहता नहर ग्वालियर रोड से सीमा शुरू होकर मथुरा अरतौनी तक, हाथरस रोड पर खंदौली तक, फिरोजाबाद रोड पर कुबेरपुर तक, फतेहाबाद रोड से रमाडा होटल से आगे तक, शमशाबाद रोड पर कहरई, व जयपुर रोड पर पथौली तक 172.52 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में बसा हुआ है हमारा आगरा। एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट के सैकड़ों वाहनों से शहर में प्रदूषण बढ़ रहा है। आगरा शहर ताज ट्रिपोजियम के अंतर्गत है जहाँ का प्रदूषण लेवल कम रखना हमारी जिम्मेदारी है। बढ़ते प्रदूषण के कारण हम काफी चिंतित हैं। हमने लॉकडाउन पीरियड में देखा कि जब वाहनों का आवागमन काफी कम था तो शहर की आबोहवा काफी अच्छी रही व प्रदूषण का स्तर मानकों से भी काफी अच्छा था। आगरा के पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को लेकर हमने कई बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व नगर विकास मंत्री से मुलाकात कर इस विषय पर चर्चा की। हमारे सुझावों को गंभीरता से लेते हुए आगरा महानगर में प्रदूषण मुक्त ट्रांसपोटेशन के लिए विद्युत चलित 100 बसों को शहरी सीमा में चलाने की अनुमति दी है।

जन परिवहन प्रणाली को विकसित करना अनिवार्य

सांसद एस0पी0सिंह बघेल ने कहा कि किसी भी नगर को पूर्ण रूप से तभी विकसित माना जा सकता है जब अन्य सुविधाओं के साथ नागरिकों को यातायात हेतु सुगम सुविधाएं उपलब्ध हो, इसके लिए निजी परिवहन से अधिक जन परिवहन प्रणाली को विकसित करना अनिवार्य है। जन परिवहन प्रणाली के माध्यम से सरलता पूर्वक न्यूनतम लागत में अधिक लोग एक स्थान से दूसरे स्थान शीघ्र अतिशीघ्र पहुंच सकते हैं जिससे मार्गों पर यातायात के घनत्व (ट्रैफिक जाम की समस्या) एवं वायु प्रदूषण दोनों में ही कमी आएगी। आगरा को प्रदूषण मुक्त करना हम लोगों का लक्ष्य है। नगर निगम, आगरा द्वारा 12000 पौधे ट्री-गार्ड सहित लगाये जा चुके हैं। द्वितीय चरण में अब प्रदूषण मुक्त सार्वजनिक परिवहन प्रणाली है।

धुएं स प्रदूषण

आगरा शहर में तीन विश्व धरोहर स्मारक ताजमहल, आगरा किला एवं फतेहपुर सीकरी है जहां समस्त देशों से पर्यटक आते हैं, जिनकी सुविधा हेतु आगरा में विश्व स्तरीय सुविधाएं होना आवश्यक है। उक्त तथ्यों के दृष्टिगत यदि आगरा नगर को परखा जाए तो ज्ञात होता है कि वर्तमान में एक कुशल जन परिवहन प्रणाली के अभाव में अधिकतम नागरिकों द्वारा यातायात हेतु निजी वाहनों का उपयोग किया जाता है। निजी वाहनों की संख्या में वृद्धि के कारण नगर के प्रमुख मार्गो पर यातायात संकुलन हो रहा है एवं उनके धुएं से वायु प्रदूषित हो रही है। फलस्वरुप आगरा के विकास पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है।

बसें अत्याधुनिक तकनीक से लैस

प्रेसवार्ता के दौरान प्रदेश के राज्यमंत्री डॉ. जी0एस0धर्मेश ने बताया कि आगरा के विकास हेतु नगर में अत्याधुनिक इलेक्ट्रिक बसों के सुनियोजित एवं सुव्यवस्थित परिचालन कराने की परियोजना की परिकल्पना की गई जिसके अंतर्गत जन सामान्य हेतु 100 वातानुकूलित मिनी इलेक्ट्रिक बसों का संचालन शुरू होने जा रहा है। यह सभी बसें अत्याधुनिक तकनीक से लैस होगी। सभी बसों में इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट सिस्टम, पैसेंजर इनफार्मेशन सिस्टम,एल.इ.डी डिस्प्ले बोर्ड, जी.पी.एस आधारित वाहन ट्रैकिंग सिस्टम, पैनिक अलार्म (इमरजेंसी बटन) आदि की सुविधा होगी। महापौर नवीन जैन ने बताया कि उक्त परियोजना को मुख्य रूप से दो स्तरों पर क्रियान्वित करने का प्रयास किया जा रहा है। पहला, 100 इलेक्ट्रिक बसों का क्रय आपूर्ति एवं 10 वर्षों तक संचालन का कार्य व दूसरा उक्त बसों के रखरखाव चार्जिंग हेतु नवीन उचित व्यवस्था का निर्माण।

ये है रूट

विधायक रामप्रताप सिंह चैहान ने बताया कि शहर के चारों कोनों को जोड़ने हेतु सुगम यातायात व्यवस्था हेतु बसों के 8 मार्ग निर्धारित किए जाने की योजना है,जिसमें एत्मादपुर विधानसभा क्षेत्र के यमुनापार में  नगर निगम, आगरा के 11 वार्डों के नागरिकों को भी लाभ मिलेगा, जो इस प्रकार हैं।

1. भगवान टॉकीज से आगरा कैंट:- भगवान टॉकीज से सूर सदन, हरीपर्वत, सेंट जॉन्स चैराहा,    राजा मंडी, सुभाष पार्क, कलेक्ट्री, साईं की तकिया, प्रतापपुरा होते हुए आगरा कैंट।

2. दयालबाग से रोहता:- दयालबाग से भगवान टॉकीज,सूरसदन, हरीपर्वत, सेंट जॉन्स चैराहा, राजा मंडी, सुभाष पार्क, कलेक्ट्री, साईं की तकिया, प्रतापपुरा सदर मधुनगर होते हुए सेवला।

3. आगरा से फतेहपुर सीकरी:-  आगरा से पथौली, मिढ़ाकुर किरावली, होते हुए फतेहपुर सीकरी।

4. आगरा से टूंडला:- आगरा से शाहदरा, छलेसर, कुबेरपुर के.सी कॉलेज, एत्मादपुर, टूंडला चैराहा होते हुए टूंडला रेलवे स्टेशन।

5. आगरा दर्शन:-  ताजमहल, आगरा फोर्ट, सिकंदरा, चीनी का रोजा, फतेहपुर सीकरी।

6. आगरा कैंट से शिल्पग्राम:- आगरा कैंट से प्रतापपुरा, शिल्पग्राम, ताजमहल, होते हुए आगरा फोर्ट।

7. आगरा से खैरागढ़:- आगरा से इटौरा, बाद, सैंया होते हुए खेरागढ़।

8. आगरा से पिनाहट:- आगरा से कुंडोल डौकी, फतेहाबाद, अरनोटा होते हुए पिनाहट।

दूसरा चरण

प्रेसवार्ता के दौरान महापौर नवीन जैन व सांसद एस0पी0सिंह बघेल ने बताया कि परियोजना का दूसरा महत्वपूर्ण भाग बसों के रख रखाव व चार्जिंग स्टेशन की व्यवस्था हेतु आगरा नगर निगम द्वारा पहल की जा रही है। विभाग द्वारा मेंटिनेंस डिपो हेतु निर्धारित क्षेत्रफल तथा आगरा महायोजना के अनुमोदित भूमि उपयोग के आधार पर आगरा के विभिन्न स्थानों का निरीक्षण किया जा रहा है जिसकी कार्यवाही अंतिम चरण में है। इससे वायु प्रदूषण में कमी आएगी एवं आगरा में sustainable trasport भी स्थापित करने में सहायक सिद्ध होगा। बसों की सुविधा सर्वाधिक नागरिकों तक पहुंचाने हेतु गहन अध्ययन के पश्चात बस चालन के मार्ग निर्धारित किए गए एवं यात्रियों की सुविधा हेतु जिले में 127 व महानगर के 84 स्थानों पर बस शेल्टर बनाये जाएंगे।

कौन करेगा निगरानी

प्रदेश राज्यमंत्री डॉ.  जी0एस0धर्मेश व विधायक रामप्रताप सिंह चैहान ने बताया कि परियोजना के दीर्घकालीन सफलता पूर्वक संचालन हेतु परियोजना की निगरानी का कार्य आगरा- मथुरा सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड द्वारा किया जाएगा। आगरा मथुरा सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड (AMCTSL) कंपनी एक्ट 2013 के तहत गठित एस.पी.वी है जिसका कार्य आगरा मथुरा में बसों एवं अन्य परिवहन सुविधाओं का संचालन करना है।

शहर के मुख्य मार्गो पर 12000 से अधिक पौधे

प्रेसवार्ता के दौरान जनप्रतिनिधियो ने कहा कि शहर में बढते प्रदूषण को लेकर पूर्व में भी कई कदम उठाए गए है। आगरा शहर की 20 लाख की आबादी को प्रदूषित तत्वों से बचाये रखने का हमारा उद्देश्य है। इसी कारण हम विगत वर्षो कार्यरत रहा हैं। पिछले दो वर्षो में शहर के मुख्य मार्गो पर 12000 से अधिक पौधे लगाए गए हैं और हमारा लक्ष्य शहर को हरा भरा बनाकर प्रदूषण को कम करना है। उसी कड़ी में पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से होने वाले प्रदूषण को खत्म करने के लिए यह इलैक्ट्रिक चालित बसें महत्वपूर्ण सिद्ध होगी। उम्मीद है कि आगामी वर्षो में आगरा का प्रदूषण स्तर मानकों के अनुरूप ही रहेगा। प्रेसवार्ता में  अपर नगर आयुक्त विनोद कुमार गुप्ता, आगरा-मथुरा ट्रांसपोर्ट सर्विसेस लिमिटेड के एम0डी0 आर0बी0 शर्मा व अधिशासी अभियन्ता आर0के0 सिंह की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

1 thought on “ताजमहल के शहर को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए मेयर लाए बड़ी योजना

  1. Pingback: News: Breaking News, National news,Sports News, Business News and Political News | livestory time

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *