आचार्यश्री मां चंदना को पद्मश्री, जानिए क्या है आगरा से नाता और क्यों खुश है जैन समाज, यहां देखें पूरी सूची

आचार्यश्री मां चंदना को पद्मश्री, जानिए क्या है आगरा से नाता और क्यों खुश है जैन समाज, यहां देखें पूरी सूची

BUSINESS Crime Education/job Election ENTERTAINMENT HEALTH NATIONAL POLITICS PRESS RELEASE REGIONAL RELIGION/ CULTURE SPORTS लेख वायरल साक्षात्कार साहित्य

Agra, Uttar Pradesh, India. केंद्र सरकार ने आचार्यश्री मां चंदना को पदमश्री से सम्मानित करने की घोषणा की है। इस घोषणा से आगरा के जैन समाज में हर्ष की लहर दौड़ गई है। श्वेतांबर जैन श्रीसंघ ने केंद्र सरकार की अनुमोदना की है। आचार्यश्री का आगरा शहर में बहुत लंबे समय से निवास रहा है। आपके गुरु राष्ट्रसंत उपाध्याय कविवर अमर मुनि दो दशक से अधिक समय तक आगरा में ज्ञान की गंगा बहाते रहे हैं। कविवर महाराज साहब का तैल चित्र भी श्वेतांबर जैन संघ के अध्यक्ष स्वर्गीय अशोक जैन सीए के अथक प्रयासों से प्रथम जैन संत के रूप में तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर शंकर दयाल शर्मा को आगरा जैन श्वेतांबर श्री संघ ने भेंट किया था, जो राष्ट्रति भवन की गैलरी में प्रदर्शित है।

राष्ट्रसंत अमर मुनि जी महाराज की प्रेरणा से आचार्यश्री महाराज ने बिहार के अति पिछड़े इलाके राजगिरी में बहुत बड़े स्थान में विरायतन स्थापित किया। जानकारी न होने के कारण वहां के निवासियों ने आचार्य श्री का बहुत उत्पीड़न किया। इसके बाद भील आचार्य श्री ने हार नहीं मानी और आज वह राष्ट्र का पीड़ित मानवता की सेवा का सबसे बड़ा स्थल है। वहां पर हजारों नेत्र रोगियों के हर वर्ष ऑपरेशन होते हैं। अनगिनत स्वास्थ्य शिविर लगते हैं। लाखों की तादाद में मरीज लाभान्वित होते हैं।

आचार्य श्री ने जैन समाज को एक करने में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विरायतन एक ऐसा तीर्थ स्थल है जिसमें मंदिर, स्थानक, स्वाध्याय का केंद्रीय मानवता का स्थान है। आचार्यश्री ने गुजरात के विभिन्न स्थलों एवं परमात्मा महावीर की निर्वाण भूमि पावापुरी में कई स्कूल, यूनिवर्सिटी, विद्यालय का निर्माण भी कराया है। उन्होंने भारतीय विद्या भवन, मुंबई से दर्शनाचार्य की उपाधि प्राप्त कीय़। पराग से साहित्य रत्न और पाथर्डी धार्मिक परीक्षा बोर्ड से मास्टर डिग्री। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से चंदना ने नव्या-न्याय और व्याकरण के विषयों में शास्त्री की उपाधि प्राप्त की।

जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक श्रीसंघ के अशोक जैन (ओसवाल एंपोरियम), प्रेमचंद जैन, राजकुमार जैन (लोहा)   सुशील जैन, संदेश जैन, सुनील कुमार जैन, अजय कुमार जैन, अब्बू भाई, सुरेश कुमार जैन, मुनमुन, राजेश सकलेचा, मुकेश, नरेश चपलावत, सुरेंद्र सोनी, महेंद्र जैन, संजय दूगड़, विमल जैन, विजय सेठिया, विनय चंद, शिक्षाविद मालचंद जैन, पूर्व सांसद निहाल सिंह जैन, रंजीत सुराणा आदि ने केन्द्र  सरकार का आभार प्रकट किया है।

padma award 20022
padma award 20022
padma award 20022
padma award 20022
padma award 3
padma award 3
padma award 4
padma award 4
Dr. Bhanu Pratap Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *