गायों को बचाने के लिए रात्रि में हाई वोल्टेज ड्रामा, बाईपास जाम, पुलिस से झड़प, फायरिंग, देखें वीडियो

गायों को बचाने के लिए रात्रि में हाई वोल्टेज ड्रामा, बाईपास जाम, पुलिस से झड़प, फायरिंग, देखें वीडियो

Crime NATIONAL REGIONAL

Agra (Uttar Pradesh, India) देर रात्रि गायों को बचाने के लिए हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ। हिन्दूवादियों ने गायों से भरा ट्रक रोक लिया। पुलिस को बताया। पुलिस नहीं आई। तस्करों को मौका मिल गया। वे हिन्दूवादियों पर फायरिंग करते हुए भाग गए। रास्ता जाम कर दिया। पुलिस आ गई। आरोप प्रत्यारोप का दौर चला। पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन मिला। तब कार्यकर्ता वहां से हटे। आपको बता दें कि यह खबर किसी अखबार में नहीं है। जब तक यह घटनाक्रम हुआ, अखबार प्रकाशित हो चुके थे।

दक्षिणी बाईपास जाम

थाना अछनेरा के अंतर्गत दक्षिणी बाईपास है। रात्रि दो बजे के आसपास की घटना है। अखिल भारत हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं को अपने सूत्रों से सूचना प्राप्त हुई थी कि कि रात में एक कैंटर दर्जनों गायों को गौकशी के लिये दक्षिणी बाईपास से लेकर गुजरेगा। हिन्दूवादी संगठन अखिल भारत हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने गायों से भरे एक कैंटर को पीछा करके पकड़ लिया। यह देख कैंटर चालक सतर्क हो गया। इसमें कई लोग सवार थे। वे फायरिंग करते हुए भाग निकले। आरोप है कि पुलिस ने मदद की क्योंकि वह सूचना देने के बाद भी मौके पर नहीं आई। कार्यकर्ता सड़क पर बैठ गए। नारेबाजी करने लगे। जय श्रीराम की गूंज होने लगी। जाम लग गया। दक्षिणी बाईपास के दोनों ओर ट्रकों की लंबी लाइन लग गई।

रुनकता चौकी पर आरोप

इसके बाद मौके पर पुलिस क्षेत्राधिकारी अछनेरा वीआर सिंह मौके पर पहुंचे। फिर थानाध्यक्ष अछनेरा आ गए। यहां पर हिन्दूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हुई। आरोप प्रत्यारोप लगने लगे। संगठन के पदाधिकारियों का यह भी आरोप है कि उक्त कैंटर का पीछा कर रहे थाना सिकंदरा की रुनकता चौकी पर तैनात सिपाहियों ने उस कैंटर में सवार लोगों को भगाने में मदद की।

कार्रवाई का आश्वासन

संगठन पदाधिकारी अतुल चौहान और सचिन भदौरिया का आरोप है कि पुलिस की मिलीभगत से गायों की तस्करी हो रही है। पुलिस कोई मदद नहीं कर रही है। सावन का महीना चल रहा है। सवाल यह है कि अछनेरा थाने से गायों के तस्कर क्यों निकल जाते हैं। सीओ अछनेरा वीआर सिंह ने नारेबाजी कर रहे कार्यकर्ताओ को दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच कर कार्यवाही का आश्वासन दिया। इसके बाद संगठन के लोग शांत हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *