केडी हास्पीटल में 100 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव ठीक हुए

केडी हास्पीटल में 100 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव ठीक हुए

HEALTH REGIONAL

Mathura (Uttar Pradesh, India) मथुरा। केडी मेडिकल कालेज-हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर से अब तक एक सैकडा से अधिक कोरोना मरीज ठीक हो कर अपने घर जा चुके हैं। यह जनपद में रिकवर हुए कोरोना मरीजों की कुल संख्या में आधे से अधिक की हिस्सेदारी है। पांच कोरोना संक्रमित स्वस्थ होकर अपने-अपने घरों को लौटे। गुरुवार को के.डी. हास्पिटल में कोरोना संक्रमण के खिलाफ विजय हासिल करने वालों का आंकड़ा सौ के पार पहुंच चुका है, जिनमें दो दर्जन से अधिक वृद्ध तथा सात गर्भवती महिलाएं शामिल हैं। स्वस्थ होकर अपने घरों को लौटे लोगों ने के.डी. हास्पिटल के डाक्टर्स, नर्सेज और पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाभावना तथा स्वास्थ्य सुविधाओं की सराहना करते हुए आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल का आभार माना है।

जनपद में रिकवर हुए आधे से अधिक कोरोना मरीज केडी से हैं

गुरुवार को पांच कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद के.डी. हास्पिटल से उन्हें डिस्चार्ज किया गया, इनमें एक बच्चा भी शामिल है। बच्चे के स्वस्थ होने पर परिजनों ने खुशी जताते हुए के.डी. हास्पिटल के चिकित्साकर्मियों के सेवाभाव की तारीफ की। ज्ञातव्य है कि कोरोना संक्रमण के खिलाफ यहां के डाक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ लगातार अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की जीवन रक्षा कर रहे हैं।
आरके एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल, चेयरमैन मनोज अग्रवाल, कालेज के डीन डा. रामकुमार अशोका, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी अरुण अग्रवाल लगातार कोराना संक्रमण के खिलाफ तन-मन से चिकित्सा सेवा करने वाले डाक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारियों की हौसलाअफजाई करते हुए उन्हें स्वयं की सुरक्षा का ध्यान रखने का भी आग्रह कर रहे हैं।
केडी हास्पिटल अपनी बेहतरीन चिकित्सा व्यवस्थाओं, विशेषज्ञ डाक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ के सेवाभाव से लगातार कोरोना संक्रमितों का जीवन बचा रहा है। के.डी. हास्पिटल में भर्ती लोगों को कोरोना महामारी से बचाने में कोविड सेण्टर इंचार्ज डा. गौरव सिंह, मेडिसिन विशेषज्ञ डा. सौरभ सिंघल, निश्चेतना विशेषज्ञ डा. ए.पी. भल्ला, डा. प्रदीप कुमार पाढ़ी, चिकित्सा अधीक्षक डा. राजेन्द्र कुमार, डा. गगनदीप कौर, डा. शुभम द्विवेदी,  नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ दिन-रात लगे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *