वृन्दावन में IFWJ की 125 वीं वर्किंग कमेटी की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

वृन्दावन में IFWJ की 125 वीं वर्किंग कमेटी की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

INTERNATIONAL NATIONAL POLITICS REGIONAL RELIGION/ CULTURE

19 से 21 सितम्बर तक चले सत्र में फैडरेशन व पत्रकारों के हितों पर चर्चा की गयी

वृन्दावन (मथुरा)। इन्डियन फैडरेशन ऑफ बर्किंग जर्नलिस्ट्स की 125 वीं बर्किंग कमेटी की बैठक वृन्दावन स्थित वृन्दा आनन्दम रिसोर्ट में आयोजित की गई।
फैडरेशन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारियों ने बैठक में विभिन्न विषयों पर विचार मंथन किया। 19 से 21 सितम्बर तक चले सत्र में फैडरेशन व पत्रकारों के हितों से सम्बन्धित विषयों पर चर्चा की गयी।

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्यअतिथि प्रदेश सरकार के कारागार एवं होमगार्ड्स विभाग के मंत्री धर्मवीर प्रजापति ने विभिन्न प्रान्तों से आये पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप किसी भी क्षेत्र में काम करें किसी भी धर्म, सम्प्रदाय, राजनीति, न्यायपालिका, कार्यपालिका, विधायिका या पत्रकारिता में कार्य करें किसी भी विभाग, क्षेत्र में कार्य करें, हम सबको इंसानियत के साथ कार्य करना चाहिए। हमारा मुख्य ध्येय इंसानियत ही होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम पद पर हमेशा नहीं रहेंगे किन्तु हमारी मानवता हमेशा-हमेशा अवश्य रहेगी।

पत्रकारों के विषय में बोलते हुए कारागार मंत्री ने कहा कि पत्रकार जान जौखिम में डाल कर समाज में अपनी भूमिका निभाता है और समाज का कार्य करता है, पत्रकार ही सरकार और आमजन के मध्य सेतु का काम करता है। पत्रकारों की जिम्मेदारी बनती है कि हम सकारात्मक बातों को जनता तक पहुंचायें और अच्छी दिशा दिखाने का काम करें। उन्होंने कहा कि हम सब आत्म चिन्तन करें कि हम समाज को किस दिशा में ले जा रहे हैं। किसी भी क्षेत्र में कार्य करें व्यक्तिगत स्वार्थ से उपर उठकर कार्य करें तो समाज का भला होगा।

कारागार मंत्री ने कहा कि आज मंदिरों में कथाओं, संत-महन्तों के यहां भींड़ की कोई कमी नहीं है, किन्तु भाईचारा घट रहा है। भींड़ बढ़ रही है सज्जनता, दयालुता, भाईचारा, प्यार कम हो रहा है, हम कहां जा रहे हैं आत्मचिन्तन करने की आवश्यकता है।
उन्होंने कारागार विभाग के विषय में चर्चा करते हुए बताया कि महिला वंदियों के साथ छोटे-छोटे बच्चे भी जेल में अकारण ही सजा काटने को मजबूर होते हैं। उनका शारीरिक व मानसिक विकास कैसे होगा इस पर हमारी सरकार ने चिन्ता की और उत्तर प्रदेश की जेलों में ऐसे बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचर नियुक्त किये गये हैं। बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए चिर्ल्डन पार्कों का निमार्ण कराया गया है।

जेल में बंद कैदियों के मानसिक स्तर को ठीक करने के लिए जेलों में गायत्री मंत्र के जाप की व्यवस्था भी की गयी है। ऐसे कैदी जो मात्र जुर्माने के अभाव में जेलों में बंद हैं उनके जुर्माने की व्यवस्था सामाजिक लोगों के सहयोग से कराकर ऐसे 316 कैदियों का जुर्माना अदा करा उन्हें घर भेजने का कार्य हमारी सरकार ने किया है।
उन्होंने बताया कि आज जेलों में एक लाख बीस हजार कैदियों में से 85 हजार कैदी 40 वर्ष से नीचे के हैं, युवा कैदियों को पढ़ाने का कार्य भी शुरू किया गया है, जिसमें 211 में से 188 युवा कैदियों ने हाईस्कूल व 157 में से 129 युवा कैदियों ने इन्टर की परीक्षा पास की है, आज जेलों में 95 प्रतिशत बंदी गरीब हैं, हमने इनमें से अधिकतर से संवाद करने का प्रयास किया है, साथही जेलों में सभी धर्म और मजहब के त्योहारों को मनाने की शुरूआत की जा चुकी है। किसी बच्चे के जेल में जन्म होने पर उसका नामकरण से लेकर महिलाओं के मंगल सूत्र पहनने की आजादी दी गई है। हमने यह कार्य मंत्री बनकर नहीं एक इंसान बन कर किया है।

होमगाड्स मंत्री श्री प्रजापति ने विभाग में किये गये परिवर्तन के विषय में चर्चा करते हुए बताया कि अब किसी भी होमगाड्स की डयूटी के दौरान मृत्यु होने की दशा में 40 लाख रुपया दिये जाने की व्यवस्था की गयी है। उन्होंने प्रकृति और जल को बचाने की मुहिम चलाने पर जोर दिया हमें आगामी पीढ़ी के लिए इनको बचाने का संकल्प करना चाहिए।

इस अवसर पर आई. एफ. डब्ल्यू. जे. के राष्ट्रीय अध्यक्ष के विक्रम राव ने जानकारी देते हुए बताया कि आगामी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक 16 एवं 17 दिसम्बर 2023 को बिहार के सीतामढ़ी में फेडरेषन और आई. एफ. डब्ल्यू. जे. की राष्ट्रीय बैठक होगी। तथा 17, 18 एवं 19 फरवरी, 2024 को प्रयागराज में फेडरेशन और आई एफ डब्ल्यू जे की राष्ट्रीय बैठक का भी निर्णय लिया गया है। पत्रकार संगठनों का विस्तार और जिला स्तर और यूनिट स्तर पर किये जाने व पत्रकार संगठनों की ईकाईयों का गठन कर सक्रियता लाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारिता का स्वरूप बदल रहा है और चुनोतियां भी बढ़ गई हैं।

बैठक में पत्रकारों को कोरोना काल पूर्व से मिलने वाली रेलवे की यात्राओं की छूट को फिर से बहाल किये जाने के प्रयासों में तेजी लाने का निर्णय लिया गया। पत्रकारों को निजी बाहन से सड़क यात्रा के दौरान टौल टैक्स में छूट देने दिये जाने की मांग केन्द्र सरकार से की गयी।

फैडरेशन की बैठक में 29 सितम्बर, 2023 को देश भर के पत्रकार काला दिवस के रूप में मनाएंगे, क्योंकि 5 वर्ष पूर्व पीटीआई के ढाई सौ से अधिक पत्रकारों को नौकरी से निकाल दिया गया था। मुम्बई स्थित ट्रिव्युनल में इसकी सुनवाई भी चल रही है देश भर के पत्रकार दिल्ली में इसको लेकर धरना देंगे।

19 से 21 तक चले बर्किंग कमेटी की आयोजित बैठक में प्रथम दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम के अन्तर्गत ब्रज के लोकगीत तथा ब्रज की फूलों की होली आषु शर्मा के ग्रुप ने प्रस्तुति दी, जिसे विभिन्न प्रान्तों से आये वरिष्ठ पत्रकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम का आनन्द लिया।
20 सितम्बर को दो सत्र में बर्किंग कमेटी की बैठक में विभिन्न विषयों पर चर्चा की गयी। राष्ट्रीय सचिव संतोष चतुर्वेदी ने सभी आगंतुक अतिथियों का स्वागत किया तथा सभी का आभार प्रकट किया।

राष्ट्रीय अध्यक्ष के विक्रम राव, राष्ट्रीय महासचिव विपिन धूलिया, पीटीआई फैडरेषन के महासचिव बलराम दहिया, आई. एफ. डब्ल्यु. जे. के राष्ट्रीय सचिव संतोष चतुर्वेदी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मोहन कुमार, राजस्थान के अध्यक्ष उपेन्द्र राठौर, बिहार से डॉ ध्रुव कुमार अध्यक्ष, सुधीर मधुकर सचिव, ओडिशा से वेणुधर पांडा अध्यक्ष, कर्नाटक से के शांता कुमारी, तेलंगाना से आनंदम अध्यक्ष, महाराष्ट्र से मुकेश कुमार अध्यक्ष, तमिलनाडु से श्रीपति अध्यक्ष, मध्य प्रदेश से सलमान खान अध्यक्ष, दिल्ली से श्री गोविंद मिश्र सचिव के अलावा विभिन्न प्रान्तों से आये सैकड़ों पत्रकार उपस्थित थे व मथुरा जनपद से प्रमुख समाजसेवी देवेन्द्र गोतम उर्फ गुड्डु भईया, वरिष्ठ पत्रकार किशन चतुर्वेदी, सुनील शर्मा, माताप्रसाद, प्रवेश चतुर्वेदी, जगजीत तिवारी, गौरव चतुर्वेदी, विनोद चौधरी, आदि की उपस्थिति प्रमुख रही कार्यक्रम का संचालन इन्दूकान्त दीक्षित ने किया।